प्रोसो मिलेट | Proso millet in hindi : Benefits and side effects

इस आर्टिकल में प्रोसो मिलेट क्या है (Proso millet in hindi), प्रोसो मिलेट की खेती, Proso millet benefits and side effects एवं प्रोसो मिलेट से जुडी कई अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां दी गयी है

Table of Contents

 बाजरा (Millet) एक ऐसा शब्द है जो आम तौर पर आम भाषा में ज्वार को संदर्भित करता है, और दुनिया भर में कई प्रकार के ज्वारी उगाए जाते हैं।  ऐसा ही एक प्रकार है प्रोसो बाजरा, जो भारत में भी उगाया जाता है।  इसके बढ़ने में अपेक्षाकृत कम समय लगता है और पौधा बुवाई के 60-90 दिनों के भीतर कटाई के लिए तैयार हो जाता है।

 प्रोसो बाजरा की खेती के लिए अपेक्षाकृत कम मात्रा में पानी की आवश्यकता होती है, और इसे शुष्क और शुष्क भूमि पर आसानी से उगाया जा सकता है।  आमतौर पर इसकी खेती मानसून के मौसम में की जाती है, लेकिन भारत और दुनिया के कई हिस्सों में इसे गर्मी के मौसम में भी उगाया जाता है और बारिश के मौसम में काटा जाता है। आइए प्रोसो मिलेट के बारे में विस्तार से जानें।

Proso millet in hindi | प्रोसो मिलेट क्या है | Proso millet kya hai

प्रोसो मिलेट बाजरा की एक प्रजाति है, प्रोसो बाजरा एक प्रमुख अनाज है, जो छोटे-छोटे दानों की तरह दिखता है। यह अधिकतर एशियाई और अफ्रीकी देशों में उगाया जाता है और मनुष्य और जानवरों के खाद्य का एक महत्वपूर्ण स्रोत है। बाजरे का बोटेनिकल नाम “Pennisetum Glaucum” है और यह घास परिवार से सम्बन्धित होता है।

बाजरे में विभिन्न पोषक तत्वों की भरपूर मात्रा होती है, जो इसे स्वास्थ्य के लिए बेहद उपयोगी बनाते हैं। इसका ग्लूटेन फ्री होना मधुमेह जैसी बीमारियों से पीड़ित लोगों के लिए एक स्वस्थ विकल्प बनाता है।

बाजरा  सूखे और अरिद क्षेत्रों में उगाया जाता है। इसकी ऊंचाई करीब 4.5 मीटर तक होती है और इसमें छोटे-छोटे दाने होते हैं। बाजरा में फाइबर, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, आयरन, कैल्शियम, जिंक और पोटेशियम जैसे मिनरल प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। इसके बीजों में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट्स, विटामिन और एंटीऑक्सिडेंट भी होते हैं।

बाजरे को स्वस्थ आहार के रूप में उपयोग किया जाता है, जिससे शरीर को ऊर्जा मिलती है और उसे अनेक स्वास्थ्य लाभ प्राप्त होते हैं। बाजरे का ग्लूटेन फ्री होने के कारण, यह मधुमेह के रोगियों और वहाँ तक कि वेजेटेरियन लोगों के लिए एक उत्कृष्ट विकल्प होता है। इसका उपयोग जुकाम, खांसी और अन्य स्वास्थ्य सम्बंधी समस्याओं के इलाज में भी किया जाता है।

प्रोसो मिलेट का वैज्ञानिक एवं विभिन्न भाषाओं में नाम | Proso millet in hindi name |  Proso millet botanical name

Proso Millet, जिसे पूरी दुनिया में “Proso Millet” के नाम से जाना जाता है, 10,000 ईसा पूर्व से भारत, चीन, वर्मा और मलेशिया जैसे देशों में उगाया जाता रहा है। यह एक प्राचीन अनाज है और अन्य अनाजों की श्रेणी में आता है।

भारत में, Proso Millet को विभिन्न नामों से जाना जाता है, जैसे कि “चेना” (Chena) जो कि हिंदी में है, तमिल में “बरागू” (Baragu), तेलुगू में “चेना” (Chena), कन्नड़ में “वरिंगा” (Variga) और मलयालम में “पानी वरागु” (Pani Varagu)।

Proso Millet को अलग अलग भाषाओ में इन नामों से भी जाना जाता है-

  • Tamil –  पानी वारागु, pani varagu
  • Odisa –  चीना बचरी बगम, China bachari bagmu
  • Proso millet in hindi –  चेना अथवा बैरी, chena or barri
  • Telugu-  वरीगा, variga
  • Punjabi –  चीना, cheena
  • Proso millet in Marathi  –  वरी, vari
  • Gujarati –  चेनो, cheno Bengali: चीना, Cheena
  • Nepali –   gu, dudhe
  • Kannada –  बरागु, baragua

Proso Millet का वैज्ञानिक नाम Panicum miliaceum है यह एक बहुत ही खास प्रकार का बाजरा अनाज है इसे काफी कम लोग ही जानते हैं. यह देखने में अंडाकार या पानी के बूंद की तरह होता है और इसका रंग सफेद होता है।

यह भी पढ़ें- मिलेट्स क्या है तथा इसके प्रकार

प्रोसो मिलेट की खेती | चीना फसल क्या है | Cultivation of proso millet in hindi

Proso millet एक प्रकार की अनाज फसल है, जो हर साल बीज से उगती है। यह जंगली प्रोसो बाजरा, बर्डसीड बाजरा, ब्रूम कॉर्न बाजरा और ब्रूमकॉर्न बाजरा के रूप में भी जाना जाता है। यह आम बाजरा, हॉग बाजरा, काशी बाजरा, लाल बाजरा, हर्षे बाजरा, पैनिक बाजरा और सफेद बाजरा जैसी अनेक विभिन्न उपस्थितियों में उगाई जाती है।

Proso millet घास के पैनिकोइडी सबफैमिली के पैनिसी के एक सदस्य है जो 60 से 100 दिनों के बढ़ते मौसम के साथ एक गर्म मौसम वाली फसल है। यह मानव उपभोग, पक्षियों के बीज और इथेनॉल उत्पादन के लिए उपयोग किया जाने वाला अत्यधिक पौष्टिक अनाज है। इसके काटे हुए अनाज में संलग्न बीज होते हैं, जो आमतौर पर सफेद या मलाईदार-सफेद, पीला या लाल होते हैं। लेकिन इसमें ग्रे, भूरा या काला भी हो सकता है। सफेद बीज वाली किस्में ज्यादातर उगाई जाती हैं, जिसके बाद लाल बीज वाली किस्में आती हैं।

प्रोसो बाजरा एक महत्वपूर्ण छोटा बाजरा है जो भारत में लोकप्रियता प्राप्त कर रहा है और अन्य अनाजों के लिए एक लागत प्रभावी विकल्प हो सकता है।  कम पानी की आवश्यकता वाली कम अवधि की फसल होने के कारण, यह सूखे की अवधि का सामना कर सकती है, जिससे यह शुष्क भूमि की खेती के लिए प्राथमिकता बन जाती है। 

प्रोसो बाजरा बाजार एक आम और महत्वपूर्ण लघु-स्तरीय बाजार है जो ग्राम परिवार से संबंधित है।  भारत में छोटी अवधि के प्रोसो बाजरे की दुर्घटनाएँ व्यापक हैं। यह विशेष रूप से गर्म और शुष्क क्षेत्रों के लिए उपयुक्त है जहाँ विकास का मौसम बहुत कम होता है और मिट्टी की उर्वरता और नमी की मात्रा खराब होती है। 

प्रोसो बाजरा को अन्य फसलों की तुलना में कम से कम पानी की आवश्यकता होती है, और यह रेतीली मिट्टी को छोड़कर किसी भी प्रकार की मिट्टी में उगाई जा सकती है।  जबकि असिंचित क्षेत्रों में खरीफ मौसम के दौरान प्रोसो बाजरा लॉन्च किया जाता है, ऐसे क्षेत्रों में जहां सिंचाई की सुविधा उपलब्ध है, गर्मियों के अंतराल के परिणामस्वरूप उच्च तीव्रता वाले क्षेत्रों में प्राप्त किया जाता है।

चेना की खेती | चीना फसल क्या है

प्रोसो मिलेट के पोषण मूल्य की जानकारी | Proso millet nutritional value per 100g

यहां हिंदी में प्रोसो मिलेट के प्रति 100 ग्राम की पोषक मानों की जानकारी दी गई है,

पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 ग्राम
कैलोरी365
प्रोटीन11.2 ग्राम
वसा4 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट71.8 ग्राम
फाइबर8 ग्राम
आयरन3 मि.ग्रा.
कैल्शियम16 मि.ग्रा.
विटामिन सी0 मि.ग्रा.
विटामिन ए16 मि.ग्रा.
विटामिन बी60.3 मि.ग्रा.
विटामिन बी120 मि.ग्रा.
मैग्नीशियम110 मि.ग्रा.
फोस्फोरस280 मि.ग्रा.
पोटैशियम185 मि.ग्रा.
जिंक2.3 मि.ग्रा.
कॉपर0.4 मि.ग्रा.
मैंगनीज1.5 मि.ग्रा.

यह विटामिन ए, मैग्नीशियम एवं पोटैशियम का अच्छा श्रोत है

Proso millet glycemic index in hindi

प्रोसो मिलेट का ग्लाइसेमिक इंडेक्स लगभग 58 के आसपास माना जाता है। कृपया ध्यान दें कि ग्लाइसेमिक इंडेक्स के मान विभिन्न कारकों जैसे पकाने के तरीके और व्यक्तिगत भिन्नताओं पर थोड़ी सी भिन्नता ला सकते हैं।

प्रोसो मिलेट और फॉक्सटेल मिलेट में अंतर | Difference between Proso millet and foxtail millet

प्रोसो बाजरा (पैनिकम मिलिअसियम) और फॉक्सटेल बाजरा (सेटेरिया इटालिका) दोनों प्रकार के छोटे बीज वाली वार्षिक घास हैं जो दुनिया के विभिन्न क्षेत्रों में भोजन के लिए व्यापक रूप से खेती की जाती हैं जबकि वे कुछ समानताएँ साझा करते हैं, दोनों के बीच कुछ महत्वपूर्ण अंतर भी हैं:

  • दिखावट-    प्रोसो मिलेट में एक गोल, गोलाकार दाना होता है जो आमतौर पर सफेद या हल्के पीले रंग का होता है फॉक्सटेल बाजरा में एक छोटा, लम्बा दाना होता है जो आमतौर पर पीला, भूरा या काला होता है।
  • उगाने की स्थितिया-    प्रोसो बाजरा शुष्क से आर्द्र वातावरण तक, बढ़ती परिस्थितियों की एक विस्तृत श्रृंखला के लिए अनुकूलित है, और सूखा और गर्मी दोनों को सहन कर सकता है।  फॉक्सटेल बाजरा गर्म, नम स्थितियों को तरजीह देता है, और मुख्य रूप से समशीतोष्ण और उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में उगाया जाता है।
  • पोषण प्रोफ़ाइल-    दोनों मोटे अनाज आहार फाइबर और आयरन, मैग्नीशियम और फास्फोरस जैसे आवश्यक पोषक तत्वों के अच्छे स्रोत हैं।  हालांकि, फॉक्सटेल बाजरा प्रोसो बाजरा की तुलना में प्रोटीन और वसा में थोड़ा अधिक होता है।
  • पाक उपयोग –    दोनों बाजरा का उपयोग विभिन्न प्रकार के व्यंजन बनाने के लिए किया जा सकता है, जिसमें दलिया, ब्रेड और किण्वित पेय शामिल हैं।  हालांकि, प्रोसो बाजरा अक्सर चावल या कूसकूस के विकल्प के रूप में उपयोग किया जाता है, जबकि फॉक्सटेल बाजरा आमतौर पर नूडल्स, पकौड़ी और डेसर्ट बनाने के लिए एशियाई व्यंजनों में उपयोग किया जाता है।

सारांश में, जबकि प्रोसो बाजरा और फॉक्सटेल बाजरा दोनों पौष्टिक और बहुमुखी अनाज हैं, उनके रूप, बढ़ती स्थितियों, पोषण प्रोफ़ाइल और पाक उपयोगों में अलग-अलग अंतर हैं।

सम्बंधित – कंगनी (Foxtail millet) की जानकारी, खेती एवं फायदे

प्रोसो मिलेट खाने के फायदे और नुकसान | Proso millet benefits and side effects

प्रोसो मिलेट में विभिन्न अमीनो एसिड, उच्च मात्रा में कार्बोहाइड्रेट, मैग्नीशियम, फास्फोरस आदि जैसे खनिजों के साथ-साथ जस्ता, विटामिन बी 6 और लोहा होता है।  ये पोषक तत्व शरीर की दैनिक पोषण संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने में मदद करते हैं और रक्तचाप को कम करने में भी सहायता करते हैं। 

लस मुक्त अनाज सभी आवश्यक अमीनो एसिड की उपस्थिति के कारण पचाने में आसान होते हैं।  हालाँकि, इन अनाजों के अधिक सेवन से आपके स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव भी पड़ सकता है, इसलिए इनका सेवन कम मात्रा में करना ज़रूरी है।  आइए हम ग्लूटेन-मुक्त अनाज का उपयोग करने के लाभों और नुकसान पर चर्चा करें ताकि आप एक सूचित निर्णय ले सकें।

प्रोसो मिलेट खाने के फायदे | Proso millet benefits in hindi

Proso millet khane ke fayde – प्रोसो मिलेट एक प्रकार का अनाज है जो भारत में बहुत उपयोग किया जाता है। यह धान्य का एक विकल्प होता है जो पोषक तत्वों से भरपूर होता है। प्रोसो मिलेट में कार्बोहाइड्रेट, मैग्नीशियम, प्रोटीन, मैगनीज, कैल्शियम, थयामिन, विटामिन, आयरन, फास्फोरस, फाइबर और रिबोफ्लेविन जैसे विभिन्न पोषक तत्व होते हैं Proso Millet से होने वाले कुछ लाभ नीचे दिए गए है ।

  • मधुमेह से राहत के लिए (proso millet for diabetes) –    बाजरे का सेवन मधुमेह के रोगियों के लिए उपयुक्त है क्योंकि यह ग्लूटेन फ्री होता है और अच्छे कार्बोहाइड्रेट और फाइबर से भरपूर होता है। इससे ब्लड शुगर को नियंत्रित किया जा सकता है।
  • कोरोनरी बीमारियों से राहत-     बाजरे में पोषण होता है जो दिल को स्वस्थ रखता है और कोरोनरी ब्लॉकेज को भी घटाता है। इससे रक्तचाप नियंत्रित रहता है और हृदयघात का खतरा कम होता है।
  • पाचन के लिए –    बाजरे में फाइबर होता है जो पेट संबंधित समस्याओं में राहत प्रदान करता है और पाचन को सुधारता है। इसके साथ ही यह गैस्ट्रो- इंटेस्टीनल समस्याओं से राहत देता है और कोलोन कैंसर की आशंका भी घटाता है।
  • डिटॉक्स करता है –     बाजरे में कुरकुमिन, एलेजिक एसिड आदि महत्वपूर्ण तत्व होते हैं, जो शरीर में एंजाइम्स को बैलेंस करते हैं और शरीर से विषाक्त पदार्थ निकालने में मदद करते हैं। इसलिए बाजरे का सेवन डिटॉक्स करने में भी मददगार होता है।

गर्भावस्था के दौरान प्रोसो मिलेट के फायदे | Proso millet during pregnancy in hindi

बाजरा एक पौष्टिक अनाज है जिसमें विभिन्न पोषक तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। इसमें आयरन की अधिक मात्रा होती है जो लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण के लिए आवश्यक होता है और एनीमिया को रोकने में मदद करता है। इसके साथ ही, बाजरे में प्रोटीन भी प्रचुर मात्रा में होता है जो भ्रूण की वृद्धि और विकास के लिए महत्वपूर्ण होता है।

गर्भवती महिलाओं के लिए, बाजरा एक बेहतरीन आहार होता है क्योंकि इसमें फोलिक एसिड भी होता है जो गर्भवती महिलाओं के लिए बहुत आवश्यक होता है। इसके अलावा, बाजरा ग्लूटेन फ्री होता है जिससे वे अलर्जी या अन्य पाचन संबंधी समस्याओं से बच सकती हैं। इससे वे अपने और अपने शिशु के स्वस्थ विकास को पूर्णतः समर्थन कर सकती हैं।

वजन कम करने के लिए प्रोसो मिलेट के फायदे | Proso millet for weight loss

बाजरा या प्रोसो मिलेट एक प्रकार का अनाज है जो प्रोटीन, फाइबर, मैग्नीशियम, आयरन, और कैल्शियम जैसे पोषक तत्वों से भरपूर होता है। इसका खाने में सेवन करने से शरीर को बहुत सारे फायदे होते हैं। यह खाद्य में कम कैलोरी होता है जो वजन कम करने के लिए उपयुक्त होता है। इसके अलावा, बाजरा खाद्य के अन्य स्रोतों की तुलना में मैग्नीशियम, फाइबर, ब्लोएक्टिव यौगिकों, और अन्य खनिजों और विटामिनों का समृद्ध स्रोत है। बाजरा एक संतुलित आहार का महत्वपूर्ण घटक है जो वजन घटाने में उपयोगी होता है।

यह भी पढ़ें – जौ (Barley) खाने के फायदे और नुकसान

प्रोसो मिलेट के नुकसान | Proso millet side effects in hindi

प्रोसो मिलेट एक अनाज है जिसका सेवन बहुत सारे स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है, लेकिन अत्यधिक सेवन से कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। बाजरे में गोइट्रोजन नामक एक पदार्थ होता है, जो थायरॉइड हार्मोन के उत्पादन को उत्तेजित करता है। इससे थायरॉइड समस्याएं हो सकती हैं। बाजरे का अधिक सेवन त्वचा को रूखी बना सकता है और घेघा (Goitre), तनाव और सोचने की क्षमता में कमी का कारण भी बन सकता है। इसलिए, इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर से परामर्श करना बेहद जरूरी है।

प्रोसो मिलेट (बाजरा) का सेवन करने से पहले आपको यह सारी बाते अवश्य पता होनी चाहिए

  • अगर आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं, तो किसी भी आहार या दवा का सेवन करने से पहले अपने चिकित्सक या फार्मासिस्ट या Herbalist (बूटियों का व्यवसायी) से परामर्श करना अति आवश्यक है। ऐसा करने से आपको स्वास्थ्य संबंधी किसी भी समस्या से बचने में मदद मिलेगी।
  • अगर आप किसी भी अन्य दवा का सेवन कर रहे हैं और इसमें आपके द्वारा ली जा रही कोई भी दवा शामिल है जो बिना डॉक्टर के पर्चे के खरीदने के लिए उपलब्ध होती है, तो इसका सेवन करने से पहले भी अपने चिकित्सक या फार्मासिस्ट से परामर्श लेना चाहिए। इससे आपको किसी भी दुष्प्रभाव से बचने में मदद मिलेगी।
  • अगर आपको बाजरा या अन्य दवाओं या जड़ी बूटियों के किसी भी पदार्थ से एलर्जी है, तो आपको बाजरे के सेवन से बचना चाहिए।
  • अगर आपको कोई अन्य बीमारी, विकार या चिकित्सा स्थितियां हैं तो भी आपको बाजरे के सेवन से पहले अपने चिकित्सक या Herbalist (बूटियों का व्यवसायी) से परामर्श लेना चाहिए। आपके डॉक्टर या Herbalist (बूटियों का व्यवसायी) आपको सही सलाह देंगे कि क्या आप बाजरे का सेवन कर सकते हैं या नहीं। उन्हें आपकी समस्या को ध्यान में रखते हुए आपके लिए सबसे उपयुक्त उपाय बताया जाएगा।

(Proso Millet) प्रोसो मिलेट से सम्बंधित पूछे जाने वाले सवाल

Q. प्रोसो मिलेट को हिंदी में क्या कहते हैं?

प्रोसो मिलेट को अन्य नामों से भी जाना जाता है। इसे हिंदी में “चुआरा” या “बारीक चने” कहा जाता है। इसके अलावा इसे “चेना” और “पुनर्वा” नामों से भी जाना जाता है।

यह भी पढ़ें –

किनोवा क्या है एवं इसके फायदे

ज्वार की पूर्ण जानकारी, फायदे और नुकसान

Rate this post

Leave a Comment